Social Media Optimization Kya Hota Hai in Hindi | सोशल मीडिया ऑप्टिमाइजेशन से हम अपने बिजनेस को कैसे बढ़ा सकते हैं ?

आजकल ज्यादातर लोग अपने बिजनेस को, या अपने बिजनेस के प्रोडक्ट्स या सर्विसेस की मार्केटिंग करने के लिए या अपने एरिया, शहर में उसकी अवेयरनेस/ पहुंच बढ़ाने के लिए सोशल मीडिया ऑप्टिमाइजेशन ( Social Media Optimization ) का इस्तेमाल कर रहे हैं ताकि वह ज्यादा से ज्यादा पोटेंशियल कस्टमर से ऑनलाइन कनेक्ट हो सके।

Social media optimization

तो चलिए हम अब जानते हैं कि Social Media Optimization क्या होता है ?

अगर हम अपने बिजनेस, प्रोडक्ट या सर्विस को मार्केट करने के लिए / या ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचाने के लिए ऑनलाइन मीडिया स्पेशली सोशल मीडिया नेटवर्किंग साइट्स का इस्तेमाल करते हैं तो उसे हम सोशल मीडिया ऑप्टिमाइजेशन कहते हैं

Social Media Optimization में हम किसका इस्तेमाल करते हैं ?

सोशल मीडिया ऑप्टिमाइजेशन करने के लिए ऑनलाइन बहुत सारी सोशल मिडिया नेटवर्किंग वेबसाइट्स का इस्तेमाल होता है पर ज्यादातर लोग फेसबुक, टि्वटर, इंस्टाग्राम, लिंकिन, यू ट्यूब इन जैसी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल करते हैं

तो चलिए अब हम जानते हैं की सोशल मीडिया ऑप्टिमाइजेशन क्या होता है ? और उसमें हमें किन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

Step 1 : प्रॉपर पोस्ट फॉर्मेट / क्रिएटिव फॉर्मेंट थीम | Facebook creative post format.

हम अपने बिजनेस के सोशल मीडिया पेज पर अलग अलग तरह के पोस्ट करते हैं बिजनेस पोस्ट, फेस्टिवल पोस्ट, या बिजनेस से रिलेटेड पोस्ट, तो उसे प्रॉपर थीम में पोस्टिंग करना बहुत जरूरी होता है क्योंकि पोस्ट फॉर्मेट से लोग हमारे बिजनेस की प्रोफेशनल लेवल तय करते हैं |
..तो पोस्ट फॉर्मेट / थीम में हमें अलग-अलग बातों का ध्यान रखना पड़ता है जैसे कि थीम में बिजनेस लोगों (logo) की जगह, कांटेक्ट डिटेल्स, वेबसाइट, ईमेल, एड्रेस क्या रहेंगे ताकि आपके पोटेंशियल कस्टमर तक आपका पोस्ट रिच हो / देखे तो वो आपके बिजनेस के बारे में और ज्यादा जानकारी आसानी से जान सके या आपसे डायरेक्ट कांटेक्ट कर सके।

Step 2: सोशल मीडिया कैलेंडर | What is Social Media Calendar?

सोशल मीडिया ऑप्टिमाइजेशन में सोशल मीडिया कैलेंडर एक बहुत इंपॉर्टेंट पार्ट होता है | जिसमें हमें यह तय करना होता है कि कौन से दिन हमारे बिजनेस पेज पर कौन सा पोस्ट जाएगा जैसे कि कौन से दिन बिजनेस पोस्ट जाएगा और कौन से दिन फेस्टिवल का पोस्ट जाएगा इसके लिए हमें पूरे महीने भर का प्रॉपर सोशल मीडिया कैलेंडर डिजाइन करना पड़ता है |
इसकी वजह से हम हर दिन अपने पुराने कस्टमर के टच में रह सकते हैं और नए कस्टमर तक रिच भी हो सकते हैं |

Step 3: पोस्ट कैप्शन | What is post caption in Social Media Optimization.

कैप्शन हमारे पोस्ट का टेक्स्ट एक्सप्लेनर पार्ट होता है जो कि हमारे पोस्ट से रिलेटेड होता है इसमें भी दो तरह के कैप्शन होते हैं बिजनेस कैप्शन और फेस्टिवल कैप्शन, बिज़नेस पोस्ट के कैप्शन में हमारे बिजनेस के डिटेल्स, सर्विसेस की डिटेल्स और वेबसाइट के डिटेल्स वगैरा होना चाहिए और इसमें भी हमें पोस्ट के कॉन्टेंट को इस तरह से डिजाइन करना होता है जिससे ज्यादा से ज्यादा लोग आपके पोस्ट के साथ एंगेज हो सके।
और जब भी हम फेस्टिवल का पोस्ट करते हैं तो उसमें कॉन्टेंट इस तरह से होना चाहिए ताकि फेस्टिवल का पोस्ट हमारे बिजनेस से कनेक्ट कर सके|

Step 4: हैश टैग | What is post hash tags?

Social Media Optimization में और एक इंपॉर्टेंट पार्ट होता है हैश टैग और वह पोस्ट के रिच से रिलेटेड होता है तो इसमें हम हमारे बिजनेस पेज पर जो भी पोस्ट करते हैं तो उसमें हमें कैप्शन के साथ पोस्ट रिलेटेड हैश टैग ऐड करना होता है जिससे हमारी पोस्ट ज्यादा से ज्यादा लोगों तक रिच होने में मदद होती है | और इसमें हम सिर्फ 30 हैश टैग ही इस्तेमाल कर सकते हैं
... तो यहां पर हमें प्रॉपर रिसर्च करके ऐसे हैश टैग ऐड करना चाहिए जो हमारे पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा लोगों तक रिच हो सके।

Step 5: ग्रुप शेयरिंग | Befits of Group Sharing on Social Media

फेसबुक में ग्रुप शेयरिंग का एक बड़ा अच्छा ऑप्शन होता है इसे बहुत से लोग इस्तेमाल करते हैं लेकिन प्रॉपर तरीके से इस्तेमाल ना करने की वजह से उन्हें इसका अच्छा रिजल्ट नहीं मिल पाता |
...इसमें हम अपने बिजनेस पोस्ट को अपने बिजनेस से रिलेटेड ग्रुप में शेयर करते हैं जिससे हमारे बिजनेस के पोस्ट्स का नोटिफिकेशन एक साथ सारे ग्रुप्स के लोगों को चला जाता है |
तो इसमें हमें करना यह होता है कि कि फेसबुक पर हमारे बिजनेस से रिलेटेड जितने भी ग्रुप होते हैं वह सब हमें ज्वाइन करना होता है और इसके बाद हम बिजनेस पेज पर जो भी पोस्ट करते उसे मिनिमम ५ ग्रुप्स में उसे शेयर करना होता है जिससे पोस्ट का रिच काफी बढ़ जाता है |
...तो इस ऑप्शन को हमें रेगुलर और हर किसी को इस्तेमाल करना चाहिए

Step 6: Image alt text option | SEO alt text

बहुत से लोगों को इमेज alt text के बारे में पता नहीं होता कि अक्चुली यह होता क्या है | इमेज alt टेक्स्ट का यह ऑप्शन सिर्फ इंस्टाग्राम में अवेलेबल है। तो जब भी हम इंस्टाग्राम पर पोस्ट करते हैं तो हमें एक alt टेक्स्ट का ऑप्शन आता है तो वहां पर हमें उस पोस्ट से रिलेटेड कीवर्ड्स को ऐड करना होता है ऐसे कीवर्ड जिसके बारे में लोग ज्यादा से ज्यादा सर्च कर रहे हो ।
इससे होता यह है कि जब भी कोई उस कीवर्ड्स पर कुछ भी सर्च करते हैं तो उनके सर्च रिजल्ट में आपके पोस्ट के आने के चांस बढ़ जाते हैं
तो हम जब भी पोस्ट करते हैं तो उसके alt टेक्स्ट पार्ट में हमें हाय सर्चेबल कीवर्ड्स को ऐड करना है

Step 7: लोकेशन | How to use location option in Facebook and Instagram

फेसबुक पर पोस्टिंग करते समय लोकेशन का भी ऑप्शन रहता है आपने देखे होंगे |
तो आपको उस ऑप्शन में आपका करंट लोकेशन या आप की सिटी डाल सकते हैं इससे फायदा यह होता है कि कोई उस लोकेशन के बारे में अगर कुछ भी सर्च करता है तो वह आपकी पोस्ट उसके रिजल्ट में आने के चांसेस बढ़ जाते हैं और उससे पोस्ट की रेंज भी बढ़ने के चांस रहते हैं
...इसलिए हर किसी को पोस्टिंग करते समय लोकेशन में अपना करंट लोकेशन या फेमस लोकेशन डालना चाहिए

सार :

तो सोशल मीडिया ऑप्टिमाइजेशन में हमें बिजनेस पोस्ट को प्रॉपर थीम, कैप्शन, # टैग ऐड करके पोस्ट करना चाहिए और उसे मिनिमम ५ बिजनेस रिलेवेंट ग्रुप में शेयर करना चाहिए |

Social Media Optimization
इस्तेमाल करने की दो सबसे बड़ी मैन वजह :

Leave a Reply